कठिनाइयाँ हर व्यक्ति के जीवन में आती हैं।

कठिनाइयाँ हर व्यक्ति के जीवन में आती हैं। कोई इन मुश्किलों को देखकर डर जाता हैं, घबरा जाता हैं,परेशान होता है, इनसे बचने का प्रयास करता है,तो कोई इन्हें स्वीकार करता है और इन्हें देखकर प्रसन्न होता है एंव इनसे मुक़ाबला करता है। अगर देखा जाए तो हर मुश्किल चुनौती हमारे लिए कुछ उपहार लेकर आती है और यह उपहार हमें उस चुनौती को स्वीकारने और उसे पार करने पर ही मिल पाता है।

Advertisements

गीता एक अनंत रत्नराशि का अतल समुद्र

गीता एक अनंत रत्नराशि का अतल समुद्र है, जीवन भर उसमें गोते लगा-लगाकर रत्न निकालते रहें तो भी उनका अंत होता नहीं, समुद्र का तल मिलता नहीं। उसके दो–एक रत्न प्राप्त कर लेंने मात्र से दरिद्र धनी बन जाता है, गंभीर चिंतक ज्ञानी हो जाता है, भगवदविरोधी प्रेमी बन जाता है।

अपने धर्म के पथ से भटकें नहीं

सामान्य जीवन में हम भी अपने कर्तव्य–पथ से भटक जाते हैं, जीवन की विषमताओं से जूझते-जूझते अवसाद व निराशा से ग्रस्त हो जाते हैं, अधर्म को स्वीकारने लगते हैं। ऐसी परिस्थिति में हम अपने धर्म के पथ से भटकें नहीं, अपने स्वधर्म का पालन करें और सतत ईश्वर में अपने मन को रमाकर उन्हीं की शरण को स्वीकारें।

सफल होने ले लिए दो चीजें महत्वपूर्ण है

सफल होने ले लिए दो चीजें महत्वपूर्ण हैं-अवसर को पहचानना और समय पर सही निर्णय करना। ऐसा देखा गया है कि सही अवसर को पहचानने में लोग प्रायः ही चूक जाते हैं और बाद में पछताते हैं। इसी तरह निर्णय-क्षमता व्यक्ति की सफलता को प्रभावित करती है।

कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।

किसी भी चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में व्यक्ति का संघर्ष जितना कठिन होगा, उसकी सफलता भी उतनी ही शानदार होगी। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति अपने जीवन के उन अनमोल उपहारों के ऊपर पड़ी हुई परतों को हटा पाता है, जिनसे वह अनभिज्ञ रहता है। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।

कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।

किसी भी चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में व्यक्ति का संघर्ष जितना कठिन होगा, उसकी सफलता भी उतनी ही शानदार होगी। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति अपने जीवन के उन अनमोल उपहारों के ऊपर पड़ी हुई परतों को हटा पाता है, जिनसे वह अनभिज्ञ रहता है। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।

कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।

किसी भी चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में व्यक्ति का संघर्ष जितना कठिन होगा, उसकी सफलता भी उतनी ही शानदार होगी। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति अपने जीवन के उन अनमोल उपहारों के ऊपर पड़ी हुई परतों को हटा पाता है, जिनसे वह अनभिज्ञ रहता है। कठिन संघर्ष से ही व्यक्ति का जीवन प्रामाणिक बनता है।