निष्काम कर्म एंव भगवत स्मरण …

निर्मलता बढ़ाने के दो ही उपाय हैं- निष्काम कर्म एंव भगवत स्मरण । जो भी कर्म करें, उनका फल भगवान को अर्पित करते चलें। यह न बने तो सतत उनका सुमिरन करें। स्मरण-उपासना द्वारा भगवान के गुणों का चिंतन करते-करते वैसा ही बन जाना ।

Advertisements

युवाओं का एक वर्ग ऐसा भी है, जो आधुनिकता के नाम पर पश्चिमी संस्कृति और सभ्यता से इतना तदाकार हो चुका है कि…..

युवाओं का एक वर्ग ऐसा भी है, जो आधुनिकता के नाम पर पश्चिमी संस्कृति और सभ्यता से इतना तदाकार हो चुका है कि उसके सामने अपनी संस्कृति महज एक संग्रहालय कि वस्तु है, जिसे देखा तो जा सकता है, अपनाया नहीं जा सकता, क्योंकि इनके लिए एकमात्र लक्ष्य है- किसी भी तरीके से धन अर्जन । संपदा ही आज सामाजिक मूलयों का प्रतीक और प्रतिष्ठा का आधार बन बैठी है।

निर्मलता बढ़ाने के…

निर्मलता बढ़ाने के दो ही उपाय हैं- निष्काम कर्म एंव भगवत स्मरण । जो भी कर्म करें, उनका फल भगवान को अर्पित करते चलें। यह न बने तो सतत उनका सुमिरन करें। स्मरण-उपासना द्वारा भगवान के गुणों का चिंतन करते-करते वैसा ही बन जाना ।

परमात्मा स्तर तक पहुंचना योग–साधना द्वारा ही संभव है।

योग के बिना आत्मा को परमात्मा से जोड़ा नहीं जा सकता और जब तक ईश्वरीय समर्थन-सहयोग प्राप्त ण हो तब तक मानवों की , ऋषि भूमिका में प्रवेश करना कठिन पड़ता है। आत्मा को, देवात्मा बनाते हुए उसे परमात्मा स्तर तक पहुंचा दें, योग–साधना द्वारा ही संभव है।

आसुरी स्वभाव वाले भगवान को नहीं मानते एंव न ही उनका भजन करते हैं।

भगवान कहते हैं की जिन्हें माया अपने जाल में फास लेती है या जो जान-बूझकर उसके जाल में फँस जाते है, ऐसे व्यक्ति विवेक खो बैठते हैं एंव नरधाम जैस आचरण करने लगते हैं, तब वे आसुरी स्वभाव वाले, भगवान को नहीं मानते एंव न ही उनका भजन करते हैं।

जो अनजान है और अपने को जानकार मानता है, उससे बचना चाहिए….

जो अनजान है और अपने को जानकार मानता है, उससे बचना चाहिए। जो अनजान है और अपने अल्पज्ञता से परिचित है, उसे सिखाना । जो जानता तो है, पर अपने ज्ञान के बारे में शंकालु है उसे जगाओ और जो जानता है, पर साथ अपनी जानकारी के प्रति आस्थावान है,वह बुद्धिमान है, ऐसे ही व्यक्ति के पीछे चलाना चाहिए ।

जो अनजान है और ….

जो अनजान है और अपने को जानकार मानता है, उससे बाचना चाहिए । जो अनजान है और अपने अल्पज्ञता से परिचित है, उसे सिखाना । जो जानता तो है, पर अपने ज्ञान के बारे में शंकालु है उसे जगाओ और जो जानता है, पर साथ अपनी जानकारी के प्रति आस्थावान है,वह बुद्धिमान है, ऐसे ही व्यक्ति के पीछे चलाना चाहिए ।