जो स्वतन्त्रता के आनंद की फसल चाहते है ।

जो स्वतन्त्रता के आनंद की फसल चाहते है ,उन्हें ऐसे बीज बोने और उसकी रक्षा करने के लिये अधिक परिश्रम और अतोला बलिदान देना होगा । अंधविश्वास और रूढ़िवाद पर आधारित शासन जनहित का संपदान नहीं कर सकता और न उग्रवादी शासन अपनी रक्षा कर सकता हैं ?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s