प्रतिभा का धनी…

प्रतिभा का धनी न कभी हारता है और न कभी अभावग्रस्त रहने की शिकायत करता है। उसे किसी पर दोषारोपण करने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती कि उन्हें अमुक सहयोग नहीं दिया या प्रगति-पाठ को रोके रहने वाला अवरोध अटकाया। प्रतिभावान ही तो शालीनता और प्रगतिशीलता का अधिष्ठाता सिधपुरुष होता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s