धैर्यवान व्यक्ति कभी भी न्यायपथ से विचलित नहीं होता है ।

नीति में निपुण लोग चाहे प्रशंसा करें या निंदा, लक्ष्मी चाहे आए अथवा इच्छानुसार चली जाए। मृत्यु अभी अथवा आज हो जाए या करोड़ों वर्षों में भी न हो। लेकिन धैर्यवान व्यक्ति कभी भी न्यायपथ से विचलित नहीं होता।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s