जिस मनुष्य का सभी से प्रेम है जो …

जिस मनुष्य का सभी से प्रेम है जो ऊंच-नीच सभी को वह एक आंख से देखता है। गरीब-अमीर का अंतर उसके हृदय में नहीं है। संसार एसे मनुष्य के उसके चरणों में झुक जाता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s